लाइफस्टाइलसर्दियों में तेजी से फैल रहा सीजनल फ्लू का...

सर्दियों में तेजी से फैल रहा सीजनल फ्लू का खतरा, पढ़ें लक्षण और बचाव

-

होमलाइफस्टाइलसर्दियों में तेजी से फैल रहा सीजनल फ्लू का खतरा, पढ़ें लक्षण और बचाव

सर्दियों में तेजी से फैल रहा सीजनल फ्लू का खतरा, पढ़ें लक्षण और बचाव

Published Date :

Follow Us On :

Get Rid of Seasonal Flu: सीजनल फ्लू एक बेहद ही गंभीर समस्या है जिससे आमतौर पर बच्चे सबसे ज्यादा संक्रमित होते हैं. सीजनल फ्लू से पीड़ित बच्चों में अत्यधिक बुखार के साथ-साथ ठंड लगने की समस्या, शरीर में थकान, सिर दर्द, तेज खांसी, गला खराब होना, उल्टी और पेट दर्द की समस्या बढ़ जाती है. हालांकि शुरुआती दिनों में माता-पिता इसे पेट की सामान्य बीमारी समझ लेते हैं जिससे बाद में ये बीमारी बड़ा रूप ले लेता है. आइए जानते हैं सीजनल फ्लू के लक्षण और उसके बचाव…

Flu

वैसे तो सर्दी के दिनों में शरीर में कई तरह की बीमारियां फैलने लगती हैं. लेकिन आमतौर पर सीजनल फ्लू एक खास तरह के वायरस के कारण फैलता है जिसके तीन तरह के अलग-अलग वैरिएंट होते हैं. सीजनल फ्लू के टाइप A और B वार्षिक प्रकोप के कारण फैलते हैं और टाइप C के मामले बहुत ही कम आते हैं.

इन कारणों से फैलता है सीजनल फ्लू

सर्दी के दिनों में सीजनल फ्लू का संक्रमण बढ़ जाता है. आमतौर पर सीजनल फ्लू से संक्रमित व्यक्ति के खने या सीखने के संपर्क में आने वाले व्यक्ति भी सीजनल फ्लू से ग्रसित हो जाते हैं. सीजनल फ्रूट से ग्रसित मरीज के साथ बैठकर भोजन भी नहीं करना चाहिए.

सीजनल फ्लू से बचने के लिए टीकाकरण जरूरी

सीजनल फ्लू से बचने के लिए बच्चों में टीकाकरण करना बेहद ही जरूरी होता है. बच्चों में सीजनल फ्लू का वार्षिक टीकाकरण करवाया जाता है. गर्भवती महिलाओं और नवजात बच्चों की स्थितियों की देखभाल के लिए आवश्यक टीका जरूर लगवाना चाहिए.

सीजनल फ्लू इन समस्याओं का बन सकता है कारण

सीजनल फ्लू से शरीर में और भी कई तरह की समस्याएं बढ़ने लगते हैं. इसके कारण कान का संक्रमण, निमोनिया, सांस लेने में परेशानी, खांसी और बंद नाक जैसी समस्याएं बढ़ जाती हैं. आमतौर पर सीजनल फ्लू कम उम्र के बच्चों को अधिक परेशान करता है.

ये भी पढ़ें: दांतों में झिंझिनाहट के समस्या से हैं परेशान तो ये देशी नुस्खे दिलाएंगे चंद घंटों में निजात

सीजनल फ्लू से बचाव के लिए करें ये घरेलू उपाय

सीजनल फ्लू से बचाव के लिए डाइट में पोषक तत्वों से भरपूर आहार का सेवन करना चाहिए. साथ ही शरीर को अत्यधिक आराम से भी सीजनल फ्लू का खतरा कम होता है. सीजनल फ्लू से ग्रसित बच्चों को समय पर डॉक्टर से जरूर दिखा लेना चाहिए. कई बार लंबे समय तक सीजनल फ्लू से ग्रसित रहने के बाद लीवर और मस्तिष्क हेल्थ को भी नुकसान होना शुरू हो जाता है.

नोट: लेख में दी गई जानकारी की सटीकता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है. लेकिन फिर भी इस पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें. हमारा उद्देश्य आपको सिर्फ जानकारी उपलब्ध कराना है. Bloggistan इसकी नैतिक जिम्मेदारी नहीं लेता.

आपके लिए – लाइफस्टाइल से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Bhavnath Kumar
Bhavnath Kumarhttps://bloggistan.com
भवनाथ कुमार को डिजिटल मीडिया में पिछले 1 साल का अनुभव है. पहले 'द बेगूसराय' सहित और कई डिजिटल वेब पोर्टलों से जुड़कर काम करने और सीखने की ललक के साथ फिलहाल Bloggistan में बतौर कंटेंट राइटर कार्यरत हैं. भवनाथ को स्वास्थ्य, लाइफस्टाइल और राजनीतिक मुद्दों पर लिखना बहुत पसंद हैं. बिहार की चढ़ती-उतरती राजनीति को गोपालगंज से समझने के बाद फिलहाल देश की राजनीति और कूटनीति को समझने के लिए दिल्ली एनसीआर में रहकर काम कर रहे हैं. भवनाथ माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई भी कर चुके हैं.

Latest news

- Advertisement -spot_imgspot_img

Must read

Volkswagen की इस बिग साइज कार में लग्जरी फीचर्स, 19 की माइलेज, कीमत 12 लाख से कम

Volkswagen  Taigun: फॉक्सवैगन अपनी कारों में सॉलिड बिल्ड क्वालिटी...

अन्य खबरेंRELATED
Recommended to you