लाइफस्टाइलसावधान ! Ready to eat foods कहीं छीन न...

सावधान ! Ready to eat foods कहीं छीन न लें आपकी जिंदगी, पढ़ें पूरी खबर

भागती दौड़ती जिंदगी में आजकल हमारे पास टाइम नहीं है. अगर हमें भूख लगी होती है तो हम कुछ ऐसा तलाश करते हैं कि, हमें खाने में तुरंत मिल जाए.

-

होमलाइफस्टाइलसावधान ! Ready to eat foods कहीं छीन न लें आपकी जिंदगी, पढ़ें पूरी खबर

सावधान ! Ready to eat foods कहीं छीन न लें आपकी जिंदगी, पढ़ें पूरी खबर

Published Date :

Follow Us On :

Ready to eat foods: भागती दौड़ती जिंदगी में आजकल हमारे पास टाइम नहीं है. अगर हमें भूख लगी होती है तो हम कुछ ऐसा तलाश करते हैं कि, हमें खाने में तुरंत मिल जाए.इस चक्कर में हम कई बार रेडी टू ईट फूड या फिर अल्ट्रा-प्रोसेस्ड खाना खा लेते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि, ये खाना आपके शरीर के लिए कितना घातक है. ये एक तरह से रेडीमेड खाना है. जिसे उबालने या फिर कुछ देर के लिए गर्म करते ही आप इसे खा सकते हैं.

लेकिन ये खाना आपके शरीर को बीमार और बहुत बीमार बना सकता है. ब्राजील में हुई एक स्टडी में ये बात सामने आई है कि, रेडी टू ईट मील(Ready to eat foods) आपके समय से पहले मौत के खतरे को 10 फीसदी तक बढ़ा सकता है.ब्राजील में 2019 में हुई इस स्टडी में ये बताया गया है कि, अगर आप रेडी टू ईट मील का सेवन करते हैं तो आप समय से पहले मौत का शिकार बन सकते हैं. 

Ready to eat food
Ready to eat food

स्टडी की कुछ खास बातें

  • रिसर्च अमेरिकन जर्नल ऑफ प्रिवेंटिव मेडिसिन में प्रकाशित हुई थी.
  • स्टडी में बताया गया है कि, लंबे समय तक अल्ट्रा-प्रोसेस्ड खाने का सेवन डायबिटीज, हृदय रोग और कैंसर जैसी बीमारियों को न्यौता देता है.
  • स्टडी में रिसर्चर्स ने पाया कि, 2019 में 30 से 69 साल की उम्र के पांच लाख से ज्यादा लोगों की मौत हुई.जिनमें 57,000 लोगों यानी करीब 10.5 प्रतिशत की मौत समय से पहले हुई, जिसकी वजह अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड्स थे.
  • स्टडी में पाया गया कि, ये आंकड़ें उन देशों में और भी भयानक हो सकते हैं जहां बड़े पैमाने पर लोग रेडी टू ईट फूड्स का सेवन करते हैं.

आखिर क्या है रेडी टू ईट फूड्स?

कई सालों से रेडी टू ईट फूड्स का सेवन बढ़ा है. मार्केट में मिलने वाले रेडी टू ईट फूड या पैकेज्ड फूड में प्रिजर्वेटिव्स कार्ब्स, शुगर और सॉल्ट से भरपूर होते हैं. इनमें ज्यादा मात्रा में फ्लेवर्स डाले जाते हैं, जो इसके टेस्ट को बढ़ाते हैं,लेकिन ये टेस्ट आपकी इम्युनिटी को घटाते हैं. इन प्रोडक्ट्स का लंबे समय तक सेवन करने से डायबिटीज,  मोटापा,  बैड कोलेस्ट्रोल और हृदय रोग का खतरा बढ़ता है.

ready to eat foods
ready to eat foods

अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड में क्या खामियां?

  • ज्यादातर सभी प्रकार के रेडी टू ईट फूड अल्ट्रा-प्रोसेस्ड होते हैं.
  • इस खाने के नैचुरल तत्व हटाकर आर्टिफीशियल केमिकल  डाल दिए जाते हैं.
  • फ्रोजन फूड जैसे पिज्जा, आलू टिक्की, कटलेट, चिप्स, पैक्ड सूप, ब्रेकफास्ट सीरियल्स, कुकीज जैसे फूड्स अल्ट्रा-प्रोसेस्ड की कैटेगरी में आते हैं.
  • अल्ट्रा-प्रोसेस्ड खाना वसा, स्टार्च, फ्लेवर्ड शुगर और अनहेल्दी फैट्स से भरपूर होते हैं.
  • अल्ट्रा प्रोसेस्ड फूड्स में ज्यादा मात्रा में कैलोरी, शुगर, नमक होता है. 

ये भी पढ़ें :Ajwain Benefits: सर्दियों में बीमारियों को दूर करेगी किचन में रखी अजवाइन, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे आप

Parul Tiwari Shukla
Parul Tiwari Shuklahttps://bloggistan.com
पारुल तिवारी शुक्ला Bloggistan में कंटेंट राइटर हैं. पारुल को ज़ी मीडिया समेत कई संस्थानों में काम करने का 12 साल का अनुभव है.वो अलग अलग चैनलों में रनडाउन प्रोड्यूसर के साथ कई शो की जिम्मेदारी लंबे समय तक संभाल चुकी हैं.इनकी पॉलिटिक्स, स्पोर्ट्स, हेल्थ, लाइफस्टाइल, एंटरटेनमेंट विषयों पर अच्छी पकड़ है. वो लाइफस्टाइल और सियासी जगत से जुड़ी कई बेहतरीन स्टोरी कर चुकी हैं. मूल रूप से यूपी के उन्नाव की रहने वाली पारुल ने लखनऊ यूनिवर्सिटी से 2008 में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा किया है.

Latest news

- Advertisement -spot_imgspot_img

Must read

Maruti Swift का टॉप मॉडल को सिर्फ 1 लाख में ले आएं घर, जानें कैसे?

Maruti Swift : मारुति स्विफ्ट देश की सबसे लोकप्रिय...

World Cup: जानिए विश्व कप में खेली गई 5 सबसे लंबी पारी के बारे में, भारत भी है शामिल

World Cup: क्रिकेट के सबसे बड़े महा मुकाबले में...

अन्य खबरेंRELATED
Recommended to you