बिजनेसHigh tech farming करने से कैसे किसानों के आएंगे...

High tech farming करने से कैसे किसानों के आएंगे अच्छे दिन,जानें

किसानों को हमारे देश में अन्नदाता कहा जाता है. हमारे कृषि प्रधान देश में किसान अपनी मेहनत से देश को सींचते हैं.

-

होमबिजनेसHigh tech farming करने से कैसे किसानों के आएंगे अच्छे दिन,जानें

High tech farming करने से कैसे किसानों के आएंगे अच्छे दिन,जानें

Published Date :

Follow Us On :

High tech farming: किसानों को हमारे देश में अन्नदाता कहा जाता है. हमारे कृषि प्रधान देश में किसान अपनी मेहनत से देश को सींचते हैं. लेकिन जानकारी के अभाव और बदहाली के चलते किसानों की आर्थिक हालत में 70 सालों में कोई खास फर्क नहीं पड़ा. हालांकि, कुछ सालों से किसानों ने तकनीक के साथ कदमताल करते हुए आर्थिक मोर्चे पर काफी हद तक सफलता पाई है.

लेकिन हकीकत में देश के कुछ गांव अब ऐसे बन गए हैं जो तकनीकों के मामले में शहरों को भी पीछे छोड़ रहे हैं.अब देश के किसानों को ऐसी ऐसी कारगर तकनीकें हाथ लग रही हैं जो उनका फायदा कई गुना बढ़ा रही हैं. हम आपको ऐसी ही टेक्नीक के बारे में बताएंगे जिसकी मदद से किसान आर्थिक रूप से मजबूत बन रहे हैं.

high tech farming
high tech farming

नैनो यूरिया से किसान बने मालामाल

सरकार नैनो यूरिया पर काफी फोकस कर रही है. नैनो यूरिया कई मामलों में फर्टिलाइजर से बेहतर होती है. इसका इस्तेमाल आसान है वहीं इसकी मदद से फसलों की पैदावार काफी अच्छी होती है साथ ही इसकी लागत भी काफी कम रहती है.

ड्रोन से हाईटेक हुए किसान

खेती में ड्रोन का इस्तेमाल लगातार बढ़ता जा रहा है. अब संपन्न और हाईटेक किसान ड्रोन की मदद से तेजी के साथ कीटनाशक और फर्टिलाइजर का छिड़काव करते हैं. वहीं ड्रोन फसलों की ग्रोथ पर नजर भी रख सकते हैं. वहीं किसान अपने ड्रोन की सेवा दूसरे किसानों को किराये पर भी दे रहे हैं, जिससे उनकी अलग से आमदनी भी हो रही है. भारत सरकार ड्रोन खरीदने के लिए सब्सिडी के साथ ट्रेनिंग भी दे रही है.

हाइड्रोपॉनिक्स टेक्नीक

बिना मिट्टी के खेती, आज कल काफी चलन में आ रही है. इसे हाइड्रोपॉनिक्स कहते हैं.भारत में कई जगह पर इसके फार्म देखने को मिल रहे हैं. इससे फसल तेजी से होती है. आमतौर पर सब्जियां उगाने में इस तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है.

स्मार्ट डेयरी

स्मार्ट डेयरी के तहत डिजिटल सेंसर से जानवरों पर नजर रखने के साथ मशीनों के जरिए प्रोडक्ट मिलते हैं. सेंसर की मदद से जानवरों में रोग, उनके स्वभाव में बदलाव आदि से किसी भी परेशानी को समय रहते समझा जाता है. मशीनों से दूध से लेकर डेयरी प्रोडक्ट हासिल करने से शुद्धता के साथ किसानों की आमदनी भी बढ़ती है.

ये भी पढ़ें: Online fraud: अगर आपके मोबाइल में है ये 4 डिजिट का नंबर, तो ऑनलाइन फ्रॉड का कभी नहीं होंगे शिकार, पढ़ें

Parul Tiwari Shukla
Parul Tiwari Shuklahttps://bloggistan.com
पारुल तिवारी शुक्ला Bloggistan में कंटेंट राइटर हैं. पारुल को ज़ी मीडिया समेत कई संस्थानों में काम करने का 12 साल का अनुभव है.वो अलग अलग चैनलों में रनडाउन प्रोड्यूसर के साथ कई शो की जिम्मेदारी लंबे समय तक संभाल चुकी हैं.इनकी पॉलिटिक्स, स्पोर्ट्स, हेल्थ, लाइफस्टाइल, एंटरटेनमेंट विषयों पर अच्छी पकड़ है. वो लाइफस्टाइल और सियासी जगत से जुड़ी कई बेहतरीन स्टोरी कर चुकी हैं. मूल रूप से यूपी के उन्नाव की रहने वाली पारुल ने लखनऊ यूनिवर्सिटी से 2008 में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा किया है.

Latest news

- Advertisement -spot_imgspot_img

Must read

Ola और Ather को टक्कर देता है Yamaha का यह पेट्रोल स्कूटर, जानें कीमत

Yamaha Aerox 155: यामाहा का एक दमदार स्कूटर है...

विधानसभा चुनाव में इन सांसदो ने बचाई लाज, तो इनके हिस्से में आई हार, जानें

Results 2023: देश के पांच राज्यों में हुए विधानसभा...

अन्य खबरेंRELATED
Recommended to you